Main content

पीएचडी कार्यक्रम

आवेदन-पत्र प्रक्रिया

      राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान, भोपाल तकनीकी शिक्षा प्रणाली के उद्‌देश्य के लिए प्रतिबद्ध देश की अग्रणी संस्था है।इन वर्षों के दौरान यह तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्टता के एक केन्द्र के रूप में उभरा है और अब देश में भिन्न तकनीकी शिक्षा प्रणालियों, उद्योगों एवं अन्य संगठनों के अतिरिक्त अनेक अन्य देशों को अपनी वैविध्यपूर्ण विशेषज्ञता प्रदान कर रहा है। संस्थान और इसकी गतिविधियों के बारे में अन्य जानकारी हेतु कृपया हमारी वेबसाइट www.nitttrbpl.ac.in को देखिए। 

      अनेक प्रकार के दीर्घ एवं अल्पकालिक कार्यक्रमों के साथ-साथ राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान, भोपाल बरकतउल्ला विश्वविद्यालय (बवि), भोपाल के तकनीकी शिक्षा के संकाय के अंतर्गत डॉक्टर की उपाधि संबंधी कार्यक्रम (पीएच.डी.) का संचालन कर रहा है। तकनीकी संस्थाओं में कार्यरत व्यावसायिकगण, प्राचार्यगण, तकनीकी शिक्षा निदेशालय, तकनीकी परीक्षा मण्डल के कर्मचारीगण तथा अन्य शिक्षा-आयोजकगण, प्रबंधकगण जो संबद्ध विभाग में स्नातकोत्तर उपाधिधारी (अंकों का पूर्ण योग 50%) हों और तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में शोध प्रारंभ करने के इच्छुक हों वे इस कार्यक्रम हेतु पंजीयन कराने के पात्र हैं। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय (बवि), भोपाल के अध्यादेश क्रमांक 14 (संशोधनाधीन) में इस कार्यक्रम के विषय में दिशानिर्देश दिए गए हैं। 

      कार्यक्रम की अवधि में अनुसंधानकर्ताओं को विश्वविद्यालय (ब.वि. भोपाल) के साथ ही अनुसंधान केन्द्र (रा.त.शि.प्र.अनु.सं., भोपाल) के नियमों तथा दिशा- निर्देशों का पालन करना आवश्यक होगा। वे समय-समय पर स्वीकार्य शुल्क एवं अन्य प्रभारों के भुगतान के लिए उत्तरदायी होंगे। 

      अतिरिक्त विवरण हेतु आप निम्न से सम्पर्क कर सकते हैं :     

      अध्यक्ष, शिक्षा एवं अनुसंधन विभाग, राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान, भोपाल

प्रोफेसर एस.के. सक्सैना : ईमेल- This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

अथवा

      प्रोफेसर किरन सक्सैना : ईमेल - This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

 

बरकतउल्ला विश्वविद्यालय (ब.वि.) भोपाल का 14 संख्यक अध्यादेश (संशोधनाधीन)