Main content

बुनियादी ढाँचागत सुविधाएँ :

      रा.त.शि.प्र.अनुसं., भोपाल मनोरम शामला पहाड़ियों पर स्थित है जहाँ से शहर का एक परिदृश्यात्मक दृश्य दिखाई पड़ता है। पूरे परिसर का क्षेत्रफल 14.55 हेक्टेयर है।

      पुस्तकालय- एक भलीभाँति सुसज्जित पुस्तकालय और एक वाचनालय के अतिरिक्त इसमें स्व-अध्ययन हेतु सुविधायुक्त एक अध्ययन संसाधन केन्द्र है। पुस्तकालय निम्न वस्तुओं से सज्जित है :-

वस्तु

कुल उपलब्ध संख्या (अनुमानित)

पुस्तकें

40,0000 लगभग

हिन्दी में पुस्तकें

6,000

पत्रिकाएँ

20

बाल साहित्य

1000

सीडी प्रकाशन

3000

महीन प्रिंट वाली लघु फिल्म (माइक्रोफीश)

40000

वीडियो कैसेट्‌स (शैक्षिक)

45

शैक्षिक सीडी

450

पारदर्शी चित्र (ट्राँसपैरेंसीज)

300

इश्तहार (हैण्ड्‌आउट्‌स)

3800

आबद्ध (सजिल्द) पत्रिकाएँ

1500

 

 

 

मीडिया अनुसंधान एवं विकास केन्द्र (एमआरडीसी) शैक्षिक चलचित्र (फिल्म)/वीडियो, बहु-माध्यमी (मल्टीमीडिया) पैकेज, स्क्रीन, छपाई, दृश्य-श्रव्य सहायक वस्तु आदि तैयार करने की सुविधा प्रदान करता है। वीडियो उत्पादन इकाई विशिष्ट उत्साह सहित अधुनातम प्रौद्योगिकी का उपयोग करती है और इसमें वीडियो, मोबाइल फिल्मांकन तथा उत्पादनोत्तर सुविधाएँ उपलब्ध हैं।

 


 

कम्प्यूटर केन्द्र में साफ्टवेयर विकसित करने की सुविधाएँ, कम्प्यूटर कक्षा तथा संकाय एवं केन्द्र के कर्मचारियों के लिए स्थान है। संकाय और संस्थान के प्रशिक्षणार्थियों के आम उपयोग के लिए कई पी.सी. रखे हुए हैं।

सभा भवन :

      संस्थान में एक प्रभावोत्पादक सभा भवन है जिसमें 220 व्यक्तियों के बैठने की जगह है और संगोष्ठियों एवं कार्यशालाओं तथा अन्य उत्सवों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह सभाभवन सभी गेजेट्स एवं वातानुकूलन प्रणाली से सुसज्जित है।


 

चन्द्रकान्त छात्रावास :

      यह छात्रावास अल्पकालिक कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए तकनीकी संस्थाओं द्वारा प्रायोजित शिक्षक प्रशिक्षणार्थियों के लिए है। इसमें एकल शैश्या वाले कमरों में लगभग 100 लोगों को ठहराया जा सकता है।

      कुछ कमरों में स्नानागार/शौचालय सुविधा उपलब्ध है। ये कमरे महिला सहभागियों और अपने साथ परिवार लेकर आने वाले प्रशिक्षणार्थियों को दिए जाते हैं।

 

विश्वेसरैया अतिथिगृह :

      महान इंजीनियर एवं भविष्यदृष्टा सर एम. विश्वेसरैया के नाम पर एक स्नातकोत्तर प्रशिक्षार्थी छात्रावास का निर्माण कार्य लगभग दस वर्ष पहले पूरा हो गया था तथा उसका उद्‌घाटन तत्कालीन माननीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री, भारत सरकार के कर कमलों द्वारा 7 जनवरी 1999 को किया गया था। इस छात्रावास की क्षमता 50 सहभागियों को ठहराने की है। इस छात्रावास में एक सामुदायिक केन्द्र, स्वास्थ्य केन्द्र तथा अनुरक्षण ब्लाक भी है।

 


 

प्रयोगशाला/कर्मशाला :

  • संस्थान में विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभागों में पूर्णतया विकसित प्रयोगशालाएँ हैं। इन प्रयोगशालाओं में ऐसे उपकरण एवं उपस्कर हैं जिनकी महान्‌ शैक्षिक तथा प्रायोगिक उपयोगिता है। उनमें से कुछ निम्न हैं :
  • कम्प्यूटर (परिकलन) साफ्टवेयर सहित कैड (सीएडी) केन्द्र
  • यंत्रिकमानव (रोबोटिक) भुजा सहित सीएनसी मशीनें
  • पीएलसी अनुरूपक युक्त मेकैटॉनिक्स प्रशिक्षण उपकरण-समूह (किट)
  • विद्युत यंत्र अनुशिक्षकगण (टयूटर्स)
  • माइक्रो-प्रोसेसर
  • द्रवचालित प्रशिक्षक
  • प्रशिक्षण उपकरण-समूह
  • माल परीक्षण
  • मृदा परीक्षण उपकरण आदि

इन प्रयोगशालाओं में संस्थान द्वारा विकसित लगभग 50 निर्देश नमूने और बड़ी संख्या में प्रायोगिक ढाँचे भी हैं।

संस्थान की कर्मशाला शिक्षा-सामग्री, दृश्य-श्रव्य साधन, नमूने तथा प्रायोगिक ढाँचे तैयार करने के लिए सभी आवश्यक उपकरणों एवं यंत्रों से सज्जित हैं। यह कर्मशाला प्रशिक्षण तथा संकाय की उनको परियोजना और उन्नतिशील कार्य में सहायता करती है।


कम्प्यूटर सुविधाएँ :

      सभी संकाय, कर्मचारी तथा अधिकारी वर्ग को इंटरनेट सुविधा सम्पन्न कम्प्यूटर उपलब्ध कराए गए हैं और आँकडे़ तथा फाइल प्रणाली को साझा करने के लिए लान (एलएएन) से जोड़ा गया है ताकि धीरे-धीरे उच्च तकनीकी सूचना प्रौद्योगिकी चलित कागजरहित कार्यालय की ओर बढ़ा जाये।

अन्य सुविधाएँ :

संस्थान में निम्न सुविधाएँ भी मौजूद हैं :-

  • चाक, चुम्बकीय, सफेद पट्‌ट, ओएचपी स्लाइड प्रोजेक्टर एवं मॉनीटर रहित एलसीडी प्रोजेक्टर से सज्जित कक्षाएँ।
  • प्रत्येक 40 कुर्सियों की क्षमता वाले दो सम्मेलन हॉल।
  • फोटोकॉपी मशीनों, लेजर प्रिंटर, इलेक्ट्रॉनिक्स स्कैनिंग, स्क्रीन प्रिंटिंग इत्यादि सहित रिप्रोग्राफिक सुविधाएँ।

संस्थान के परिसर में ही एक अतिथि गृह, अधिकांश संकाय तथा कर्मचारियों के लिए कर्मचारी आवास हैं।